नई दिल्ली. महाराष्ट्र (Maharashtra) के नासिक जिले के आसपास के गांवों के किसान परिवारों के बड़ी संख्या में युवा खेती-बाड़ी से ज्यादा इलेक्ट्रीशियन, प्लंबिंग जैसी वैकल्पिक नौकरियों से कहीं अधिक धन कमा रहे हैं. उनमें से अधिकांश किसान, निर्माण-संबंधी उद्योग में वैकल्पिक नौकरियों से 7,000 से 15,000 रुपये प्रति माह कमा रहे हैं. इन किसानों का कहना है कि इन नौकरियों से उन्हें अपने कृषि पर निर्भर परिवारों की मदद के लिए पर्याप्त पैसा मिल जाता है.

प्रतिभाशाली पेशेवारों के रूप में उभर रहे युवा किसान
ये किसान - ज्यादातर कक्षा 8वीं से 12वीं पास हैं और ये धीरे-धीरे प्रतिभाशाली पेशेवरों के रूप में उभर रहे हैं. उनके इस हैसियत के लिए श्रेय, पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (PNBHF) के कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (CSR) के तहत उसके द्वारा कार्यान्वित किये जा रहे व्यावसायिक कौशल हस्तक्षेप को जाता है जिसे वह कन्फेडरेशन ऑफ रियल एस्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (CREDAI) और विवेकानंद संस्थान नासिक के समर्थन से चला रहा है.