तेज हवाओं और बरसात ने किसानों के चेहरे की रंगत चिंता में बदल दी। किसानों को आंधी और पानी से काफी नुकसान हुआ है। जो फसलें खेतों में कटी रखी थीं, वह उड़ गईं।बुधवार ओर गुरुवार की शाम व रात को अचानक मौसम बदल गया और करीब आठ बजे तेज हवाएं चलने लगीं। हवाओं के साथ पानी भी बरसने लगा व कुछ राज्यो में ओले भी गिरे। तेज हवाएं चलने से किसानों के खेतों में कटी हुई रखीं चना, मसूर, मटर की फसलें उड़कर दूसरे के खेतों में पहुंच गईं। कोरोना वाइरस के फैलने से भारत में लॉकडाउन होने की वजह से मजदूर और हार्वेस्टर नहीं मिल पा रहे हैं, जिससे किसानों को फसल की थ्रेशिंग करने में देरी हो रही है। वहीं, गेहूं की फसल खेतो में पककर कटने को तैयार खड़ी है। वह भी तेज हवा और बरसात से खेतों में ही बिछ गई।
तेज हवा और पानी से सबसे ज्यादा नुकसान मध्यप्रदेश में हुआ है। वहीं, तेज हवाओं के कारण कई स्थानों पर बिजली के तार टूट गए, जिससे बिजली ठप हो गई।