मध्यप्रदेश में अब तक हवा का पैटर्न सेट नहीं होने और पश्चिम विक्षोभ लगातार आने से मौसम में उतार चढ़ाव बना हुआ है। यही कारण है कि शुक्रवार से लेकर सोमवार तक लोगों को गर्मी का एहसास हुआ।
मौसम विशेषज्ञ के अनुसार नवंबर के शुरुआत में ठंड होने के बाद भी पश्चिम विक्षोभ के कारण तापमान बढ़ गया है। पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आने वाली इन हवाओं के कारण कश्मीर में बर्फ गिरने के बाद भी ठंडी हवाएं नीचे नहीं आ पा रही हैं। 30 नवंबर तक इसी तरह तापमान में उतार-चढ़ाव रहेगा। हालांकि दिसंबर में ला नीना के प्रभाव कारण ठंडक बढ़ेगी। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक जेडी मिश्रा के अनुसार इस बार ला नीना का प्रभाव अधिक समय रहेगा। जिससे यह ज्यादा दिन तक रहेगी।