6 जुलाई के बाद मॉनसून फिर सक्रिय हो सकता है, क्योंकि मॉनसून की अक्षीय रेखा दक्षिण की ओर सरकना शुरू कर देगी। जुलाई के पहले सप्ताह तक देश के अधिकांश हिस्सों में मॉनसून की कमजोर स्थिति जारी रहने की उम्मीद है।

गुजरात और राजस्थान का मौसम कम से कम एक सप्ताह तक पूरी तरह शुष्क रहेगा। गुजरात के दक्षिणी हिस्सों में हल्की बारिश की गतिविधियां हो सकती हैं।

जुलाई के पहले सप्ताह तक देश के अधिकांश हिस्सों में मॉनसून की कमजोर स्थिति जारी रहने की उम्मीद है। यह ब्रेक मानसून कृषि पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगा।